भारत में सहकारिता आंदोलन का प्रारंभ और सहकारिता का इतिहास

भारत में सहकारिता आंदोलन का प्रारंभ और सहकारिता का इतिहास

सहयोग एक आम लक्ष्य प्राप्त करने के लिए कई व्यक्तियों या संगठनों द्वारा एक आम प्रयास है। एक ही उद्देश्य को पूरा करने के प्रयोजनों के लिए, कई संगठनों, संगठनों या संस्थानों को सहकारी समितियों कहा जाता है।

भारत में सहकारी आंदोलन से आज की स्वतंत्रता भारत आज बहुत लोकप्रिय हो गया है और देश के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसने लोगों को आर्थिक रूप से समृद्ध बनाया है और बेरोजगारी की समस्या बहुत कम हो गई है। एक अनुमान में, देश में 5 लाख सहकारी समितियां सक्रिय हैं, अरबों लोगों को रोजगार मिल रहा है। ये समितियां अधिकांश समाज में काम कर रही हैं, लेकिन कृषि, उर्वरक और दूध उत्पादन में उनकी भागीदारी सबसे ज्यादा है। अब बैंकिंग क्षेत्र में सहकारी समितियों की संख्या बढ़ रही है। लेकिन देश के सहकारी आंदोलन कई विसंगतियों के जाल में फंस गए हैं, जिसने राजनीतिक समाधान के लिए रास्ता बनाया है।

संगठित लोग, जो व्यवसाय चलाते हैं, वित्तीय सेवाएं चलाते हैं, और समाज के सभी सदस्यों को वित्तीय लाभ देते हैं, को सहकारी समितियों या सहकारी समिति कहा जाता है। ऐसे व्यवसाय में लगे पूंजी संगठन के सभी सदस्यों को वित्तीय योगदान के रूप में समेकित किया जाता है। राजधानी में वित्तीय हिस्सेदारी वाला व्यक्ति उन सहकारी संगठनों का सदस्य है। 1 9 04 में, अंग्रेजों ने भारत में सहकारी समितियों की एक निश्चित परिभाषा बनाई। कानून बनाने के बाद, इस क्षेत्र में कई पंजीकृत संगठन काम करने आए। एक सहकारी समिति समाज की स्थापना करके, सरकार ने इसे तेजी से बढ़ाने की कोशिश की है। सरकार के प्रयासों ने सहकारी समितियों की संख्या में वृद्धि की, लेकिन सहयोग के बुनियादी तत्व धीरे-धीरे समाप्त हुए। सहकारी समितियों ने पार्टी की राजनीति में प्रभुत्व शुरू कर दिया है। लालच और भ्रष्टाचार हर जगह हैं। समितियों के सदस्यों को निष्क्रिय पाया गया और सरकारी हस्तक्षेप में वृद्धि हुई। सहयोग की यह पृष्ठभूमि, सहकारी समितियों की स्वायत्तता की मांग और एक मजबूत बल बनाने के लिए सहकारी आंदोलन की स्थापना, सहकार भारती अस्तित्व में आईं।

About admin

Check Also

How to Earn daily 20000 to 50000 Refer and Earn

कमाइए १००० से 3०००० तक रोजाना One Code के साथ.

Contents0.1 One Code आप इनस्टॉल करने के लिए निचे दिए हुए  Online Registration पर क्लिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *